Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

मिलो गर तो बता दूंगा

हृदय में गम का सागर है मिलो गर तो बता दूंगा
नयन में दुःख कि नदिया है मिलो गर तो बता दूंगा
मुसीबत में पड़ा हूं मैं न अब कोई सहारा है
है दिल टूटा हुआ मेरा मिलो गर तो बता दूंगा
शक्ति त्रिपाठी देव

1 Like · 244 Views
You may also like:
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
धुँध
Rekha Drolia
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
O brave soldiers.
Taj Mohammad
*माँ शारदे वर दो*
Ravi Prakash
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
या इलाही।
Taj Mohammad
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...