Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

मिले ही नही

जिंदगी गुजार दी अंजानो की सोहबत में
जब चलने का वक़्त आया तो लगा
अपनो से तो अभी मिले ही नही

2 Likes · 230 Views
You may also like:
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
*सत्संग-प्रिय श्री नवनीत कुमार जी*
Ravi Prakash
भूख
Varun Singh Gautam
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
भ्रष्टाचार पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
✍️मिसाले✍️
'अशांत' शेखर
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
*राम राम जय सीता राम*
Ravi Prakash
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
कभी हम भी।
Taj Mohammad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मेरा वजूद
Anamika Singh
जब उमीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
Loading...