Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

मिले जब भी नजरें उस से प्यार से/मंदीपसाई

मिले जब भी नजरे उस से प्यार से/मंदीप

मिले जब भी नजरें उस से प्यार से,
दिल को सुकून मिले उस के दीदार से।

सब कुछ बया कर देते,
छलके जब भी मोती अश्को से।

नाम बहुत से है इस जहान में,
पर महोबत है उसके नाम से।

है बस अब तो एक ही ख्वाइश,
मेरा नाम जुड़े उसके नाम से।

बन जाता मेरा हर दिन,
जब उठाता उसका अहसास प्यार से।

अगर हो जाये कोई गलती,
माफ़ कर देना तेरे “मंदीप” को प्यार से।

मंदीपसाई

180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
जिसे हम अपना समझते हैं
जिसे हम अपना समझते हैं
राकेश कुमार राठौर
पार्क
पार्क
मनोज शर्मा
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
ठोकर खाया हूँ
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
पुरानी यादें
पुरानी यादें
Palak Shreya
*एक अकेला (कुंडलिया)*
*एक अकेला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
दर्द अपना
दर्द अपना
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
!! रक्षाबंधन का अभिनंदन!!
Chunnu Lal Gupta
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-346💐
💐प्रेम कौतुक-346💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
झूठी साबित हुई कहावत।
झूठी साबित हुई कहावत।
*Author प्रणय प्रभात*
वो एक तुम
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
अँगना में कोसिया भरावेली
अँगना में कोसिया भरावेली
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
भारतीय रेल
भारतीय रेल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
रामे क बरखा ह रामे क छाता
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
चमत्कार
चमत्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️ अपने रिश्ते ही कुछ ऐसे है
✍️ अपने रिश्ते ही कुछ ऐसे है
'अशांत' शेखर
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कवि कृष्णचंद्र रोहणा की रचनाओं में सामाजिक न्याय एवं जाति विमर्श
कवि कृष्णचंद्र रोहणा की रचनाओं में सामाजिक न्याय एवं जाति विमर्श
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...