Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 17, 2016 · 1 min read

मिलन का प्रथम प्रहर

चारुलता सी पुष्प सुसज्जित, चंद्रमुखी तन ज्योत्स्ना.
खंजन- दृग औ मृग- चंचलता, मानों कवि की कल्पना.
उन्नत भाल -चाल गजगामिनी, विधि की सुन्दर रचना है.
मंद समीर अधीर छुवन को, सच या सुंदर सपना है.
निष्कलंक -निष्पाप ह्रदय में, पिया-मिलन की कामना.
खंजन-दृग औ मृग-चंचलता, मानों कवि की कल्पना.
तना-ओट से प्रिय को निहारा, नयन उठे और झुक भी गए.
प्रिय- प्रणय की आस ह्रदय में, कदम उठे और रुक भी गए.
थरथर कांपे होंठ हुआ जब, प्रिय से उसका सामना.
खंजन-दृग औ मृग-चंचलता, मानों कवि की कल्पना.
नयन-कोर से रह-रह बहके, धार कुंवारे काजल की.
कंधे से रह-रह कर कटि तक , सरके अल्हड़ आँचल भी.
प्रिय ने लिया आलिंगन में तब, पूरी हुई चिर साधना.
खंजन-दृग औ मृग-चंचलता,मानों कवि की कल्पना.
——-सतीश मापतपुरी

2 Comments · 314 Views
You may also like:
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
इंसानो की यह कैसी तरक्की
अनामिका सिंह
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
शायरी
Dr. Alpa H. Amin
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️किसान की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
मेरा जीवन
अनामिका सिंह
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...