Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2022 · 1 min read

मिलने तुमसे आएँगे (भक्ति- गीतिका)

*मिलने तुमसे आएँगे (भक्ति- गीतिका)*
■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
तुम्हारे चाहने वाले हमेशा तुमको चाहेंगे
मिलो तुम न मिलो रोजाना मिलने तुमसे आएँगे
(2)
तुम्हें देखा नहीं लेकिन तुम्हारा ऐसा जादू है
नशे-मस्ती के झरने में बिना देखे नहाएँगे
(3)
तुम्हें पाने का मतलब है कि जन्नत मिल गई जैसे
जमाने के नहीं फिर गम कोई हमको सताएँगे
(4)
तुम्हें जो पा लिया तो फिर कोई ख्वाहिश नहीं रहती
मगर वह “कुछ नहीं” एहसास को कैसे बताएँगे
(5)
हमें मालूम है चेहरा तुम्हारा कुछ नहीं होता
कोई तस्वीर कैसे फिर तुम्हारी हम बनाएँगे
————————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

104 Views

Books from Ravi Prakash

You may also like:
कातिल है तू मेरे इश्क का / लवकुश यादव
कातिल है तू मेरे इश्क का / लवकुश यादव"अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
विजय पर्व है दशहरा
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
मान जा ओ मां मेरी
मान जा ओ मां मेरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूठ जाने लगे हैं
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
बोझ
सोनम राय
हर किसी के पास हो घर
हर किसी के पास हो घर
gurudeenverma198
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Book of the day: ख़्वाबों से हकीकत का सफर
Book of the day: ख़्वाबों से हकीकत का सफर
Sahityapedia
खंड 6
खंड 6
Rambali Mishra
🌹मां ममता की पोटली
🌹मां ममता की पोटली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
करता यही हूँ कामना माँ
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रमणी (कुंडलिया)
रमणी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
■ व्यंग्य / एडिटेड फोटो, इम्पोर्टेड और एडॉप्टेड कमेंट 😊
■ व्यंग्य / एडिटेड फोटो, इम्पोर्टेड और एडॉप्टेड कमेंट 😊
*Author प्रणय प्रभात*
रुतबा
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम आए हैं बुद्ध के देश से
हम आए हैं बुद्ध के देश से
Shekhar Chandra Mitra
ਪਰਹੇਜ਼ ਕਰਨਾ ਸੀ
ਪਰਹੇਜ਼ ਕਰਨਾ ਸੀ
Surinder blackpen
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
माँ बहन बेटी के मांनिद
माँ बहन बेटी के मांनिद
Satish Srijan
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
Shivraj Anand
दोहे एकादश....
दोहे एकादश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शादी
शादी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
JHIJHIYA DANCE IS A FOLK DANCE OF YADAV COMMUNITY
JHIJHIYA DANCE IS A FOLK DANCE OF YADAV COMMUNITY
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
खास अंदाज
खास अंदाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...