Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 4, 2017 · 1 min read

मिलने का टाइम….

एक हसीना ने थप्पड़ रसीद कर दिया जब…
पुछा जो दोस्त से के क्या हुआ ये सब…..
गाल पे थप्पड़ पाँचों उँगलियों के हैं निशाँ….
क्या कर दिया जुलम तुम्हारी जानेंजानां…
बोला कमसिन नादां है शर्माती है सबके सामने…
हिसाब से बोली है शाम 5 बजे आ जाना मुझसे मिलने….

370 Views
You may also like:
बरसात
मनोज कर्ण
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
If we could be together again...
Abhineet Mittal
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
Loading...