Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-297💐

मिरी ख़ामोशी का भी हक़ मार लिया गया,
कैसे जानते हैं मुझे पहला सवाल किया गया।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रीमती का उलाहना
श्रीमती का उलाहना
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
इश्क का भी आज़ार होता है।
इश्क का भी आज़ार होता है।
सत्य कुमार प्रेमी
तस्वीरे मुहब्बत
तस्वीरे मुहब्बत
shabina. Naaz
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अजब रिकार्ड
अजब रिकार्ड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
वाह नेताजी वाह
वाह नेताजी वाह
Shekhar Chandra Mitra
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
विश्वास मिला जब जीवन से
विश्वास मिला जब जीवन से
TARAN SINGH VERMA
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सिला नहीं मिलता
सिला नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
Manisha Manjari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*दर्शन मछली का शुभ पाया (बाल कविता)*
*दर्शन मछली का शुभ पाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
छुपा लो मुझे तेरे दिल में
छुपा लो मुझे तेरे दिल में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
याद
याद
Kanchan Khanna
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वर के रूप 'पिता'
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
अवधी दोहा
अवधी दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
✍️
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
Loading...