Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

मिथक

कल्पना में मत उलझ
है मिथक सारा जगत
सत्य से रु-ब-रु हो
जन्म से आरम्भ जो हो
इससे परे मैं हूँ सदा
अदृश्य जो सदृश्य भी हो
तू बना क्यों ?उद्देश्य हैं क्या ?
ये भी सोचा है क्या ?
क्यों मिला ?मानस जन्म
करने हैं क्या तुझको कर्म
वोध ज्ञान भी हो कभी
है क्या तेरा भी कोई निज धर्म
छोड़कर आडम्बरों को
तोड़कर रुढियों को
प्रकाश को आयाम दे
स्वयं को भी विराम दे
चौधियां गेन आँखें तेरी
ओझल रचियता होने लगा
तकनीक का विकास कर
करता खुद ही बनने लगा
सारी सृष्टि की भांति ही
तू भी मेरी ही एक रचना
भटक गया जो राह से तो
कष्ट पड़े हैं आज सहना
मुझको तू पहचान ले
स्वयं को भी जन ले
प्यार कर और प्यार पा
प्यार को अंजाम दे
खुद को तू विश्राम दे
मत भाग तू कही और
सखे वो यही है तेरे वसे

Language: Hindi
11 Likes · 494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-397💐
💐प्रेम कौतुक-397💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
TARAN VERMA
कोशिश
कोशिश
Dr fauzia Naseem shad
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
नव लेखिका
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
प्रेम.......................................................
प्रेम.......................................................
Swara Kumari arya
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
कवि दीपक बवेजा
न्याय है इतना धीमा (कुंडलिया)
न्याय है इतना धीमा (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
तुम से सिर्फ इतनी- सी इंतजा है कि -
लक्ष्मी सिंह
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"दुविधा"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
Shubham Pandey (S P)
नया साल
नया साल
umesh mehra
गोबरैला
गोबरैला
Satish Srijan
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...