Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मित्र

बुरे वक्त में ही दिखे, सबके असली रंग।
केवल सच्चा मित्र ही, रह जाते हैं संग।।

टाँग खींचती दोस्ती, कुछ मीठी नमकीन।
केवल खुशियाँ बाँटते, गम लेते हैं छीन।।

राह दिखाये जो सही, गलती पर दे डाँट।
वो ही सच्चा मित्र हैं, जो लेता दुख बाँट।।

कृष्ण सुदामा ने दिया, जग को यह संदेश।
ऊँच नीच से हो परे, सदा मित्र परिवेश।।

पति पत्नी जब मित्र हों, करते खूब कमाल।
गाड़ी पटरी पर चले, जीवन हो खुशहाल।।

रहें संग जब मित्रवत, हृदय भरी हो प्रीत।
जीवन की हर दौड़ में, बाजी जाते जीत।।

कृष्ण-सुदामा की तरह, मिले कहाँ अब मित्र।
स्वार्थ लिप्त होने लगा, सबका यहाँ चरित्र।।

कृष्ण सुदामा ने दिया, जग को यह संदेश।
ऊँच नीच से हो परे, सदा मित्र परिवेश।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

4 Likes · 1 Comment · 239 Views
You may also like:
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
झूला सजा दो
Buddha Prakash
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...