Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मित्र के नाम दिलश: पत्र

तुम्हारी चित्रकारी अद्भुत थी ! ‘थी’ पर इसलिए जोर है, क्योंकि आजकल ‘मेरी यह जान’ व्यवसायी हो गए हैं!

मैंने अपनी ज़िंदगी का 3 वर्ष ‘नारायणपुर’ में बिताया है, जहाँ ‘रईश’ का घर है और रईश ने उन दिनों इतने ही वर्ष ‘नवाबगंज’ में बिताए, जहाँ मेरा घर है !
‘पाठक सर’ के यहाँ हर दिन दो टाइम मुलाकात होती ! मैट्रिक एक बहाना था, क्योंकि यहाँ दो कलाकार मिल रहे थे ! ‘होनहार बिरवान’ होते हैं या नहीं, मैं यह नहीं जानता ! किन्तु पाठक सर ने हममें साहित्य साधे!

पाठक सर ‘मायाजाल’ और ‘अहंकार’ में नहीं कुलबुलाते, तो निश्चित ही उनकी हिंदी ज्ञानविथि उन्हें ‘साहित्य अकादमी’ सम्मान प्राप्तकर्त्ता की फ़ेहरिश्त में जगह दिलाती !

प्रसंगश: कहना है, मैंने हिंदी फिल्म ‘शोले’ कई बार देखा है ।
रईश जावेद से प्रथम मिलन के समय मैं उन्हें ‘शोले’ के पटकथा-लेखक ‘सलीम जावेद’ के परिवार से समझता था । सचमुच में, गोरे-चिट्टे ‘रईश’ फ़िल्मी कलाकार के परिवार से ही लगते हैं । मैट्रिक तक तो यही लगता था !

इंटर कक्षा में ही जान सका कि सलीम-जावेद दो व्यक्ति हैं, एक सलीम खान, दूजे जावेद अख़्तर !

स्नातक-क्रम में रईश को मैंने बहुत ढूँढ़ा, वो शायद वास्तव में फ़िल्मी दुनिया के सदस्य बनने बम्बई (मुम्बई) चले गए थे और मैं आईएएस का ख़्वाब लिए पहले दिल्ली, फिर इलाहाबाद और अंत में ‘पटना’ बस गया !

रईश से उस दशक में 1994 में अंतिम मुलाकात हुई थी, तो गत दशक में 2008 में ! इस दशक में ‘भौतिक’ रूप से अबतक नहीं ! हाँ, एक दिन अचानक मनिहारी में उन्हें देखभर ही सका था, वह बाइक पर थे, पीछे उनकी सुंदर बीवी यानी मेरी भाभी विराज रही थी, फिर सेकेंड के सौवें हिस्से लिए वे फुर्र हो गए थे !

हम दोनों के घर की दूरी मात्र 3 किलोमीटर है । दोनों की कार्य-व्यस्तता अलग-अलग हैं । ‘फ़ेसबुक’ ने दोनों को फिर मिलाया, अभी इस तकनीक के कारण ही जुड़ा हूँ !

दोस्त ! पहले तुम्हें ‘एम एफ हुसैन’ या ‘राजा रवि वर्मा’ देखना चाहता था !
परंतु अब तुम्हें रईश जावेद ही देखना चाहता हूँ, किन्तु चित्रकार के रूप में !

….. और तुम्हारी उम्र ‘100’ साल के पार हो ही, ताकि अपने इस ‘अदना’ मित्र पर लिख सको–

“तुम वो हस्ती हो दोस्त, जो आसमान छुकर भी ये एहसास नहीं होने देते हो, जबकि लोग यहाँ चाँद छूले, तो अपनी ख्याति के लिए कह दे कि मैंने आसमान छू लिया है!”

तुम सिर्फ नाम से ही नहीं, धन से ही नहीं, अपितु दिल से भी ‘रईश’ हो! ….और मेरे लिए ‘दिलवाले’ रईश ही बने रहो, हमेशा ! शुक्रिया दोस्त !

2 Likes · 181 Views
You may also like:
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
ममता
Rashmi Sanjay
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
साथ
साहित्य गौरव
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
झूला सजा दो
Buddha Prakash
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
Loading...