Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

मिट्टी

लेखक _डॉ अरूण कुमार शास्त्री
विषय _ मिट्टी
विधा _ पद्य, स्वच्छंद कविता
शीर्षक _ मिट्टी की वेदना

मिट्टी से पैदा हुआ मिट्टी में ही समाया।
ये गणित का त्रिकोण मेरी समझ न आया ।

पांच तत्वों से बना जल पृथ्वी अग्नि वायु आकाश।
ऐसी हाड़ मांस की टोकरी का अंहकार कर देता विनाश।

मूल निवासी इस घर का कोई भी पकड़ आज तक नहीं पाया ।
वो तो अजर अमर अविनाशी जा परमतत्व
में समाया।

दर्द सहा बीमार हुआ भूख से बेहाल हुआ रोज़ खाता रोज़ कमाता ।
फिर भी इन्द्रियों द्वारा संचालित मन मोह माया से तृप्त नहीं हो पाता।

मिट्टी से पैदा हुआ मिट्टी में ही समाया।
ये गणित का त्रिकोण मेरी समझ न आया ।

रुपया पैसा जोड़ – जोड़ कर बन बैठा साहुकार।
ऊंची नाक कर घूम रहा है देखो कितना अहंकार ।

कथनी करनी का कोई भी मेल मिला न इसकी ।
सुबह हुई तो सपनों से भरी हुई थी बुद्धि में
अनेक योजनाओं की स्मृति।

लेकिन शारीरिक क्षमताओं से ज्यादा कुछ भी न कर पाया ।
मिट्टी- मिट्टी हो गए सपने और विचार जब अन्त समय था आया।

भजन कीर्तन किया कभी न, न ही प्रभू को ध्याया ।
मानव शरीर में रहने का धर्म न कोई अपनाया ।

मिट्टी से पैदा हुआ मिट्टी में ही समाया।
ये गणित का त्रिकोण मेरी समझ न आया ।

©®

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
Harminder Kaur
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
परम्परा को मत छोडो
परम्परा को मत छोडो
Dinesh Kumar Gangwar
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
💐प्रेम कौतुक-559💐
💐प्रेम कौतुक-559💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन
जीवन
sushil sarna
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
पूर्वार्थ
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
Swati
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
Loading...