Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मिट्टी की कीमत

मिट्टी की कीमत

क्या होती है मातृभूमि ये,
माँ का बेटा ही पहचाने।
वतन फरोशी करने वाले,
मिट्टी की कीमत न जाने।।
गद्दारी रग-रग में जिनके,
चाटुकारिता और मक्कारी है।
धब्बा है वो देश की ख़ातिर,
बहुत भयानक महामारी है।।
धूर्तों सी फितरत होती जिनकी,
मूर्खों सी हरकत करते रहते।
त्याग के अपने मूल वंश को,
जाने कितने रंग बदलते रहते।।
घात लगाए रहते हरदम,
देश की आन मिटाने को।
पर जो हैं सपूत होते शहीद,
माता की लाज बचाने को।।
देशद्रोहियों गौर से सुन लो,
क्या हैं हम दिखला देंगे।
बात आन पे आ जाए गर तो,
जिन्दा ही मिट्टी में दफ़ना देंगे।।
गद्दारों के हर नापाक इरादे,
मन -ही-मन में रह जाएंगे।
गिन-गिन कर और चुन-चुन कर,
सबको देश से निकाल भगायेंगे।।
हम जीते हैं इस देश की खातिर,
देश के लिए ही मर जायेंगे।
निज देश की मिट्टी की खातिर,
हम अपना शीश कटा देंगे।।

🙏🙏🙏🙏🙏
रचना- मौलिक एवं स्वरचित
निकेश कुमार ठाकुर
गृह जिला- सुपौल (बिहार)
संप्रति- कटिहार (बिहार)
सं०-9534148597

7 Likes · 12 Comments · 246 Views
You may also like:
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
किसान
Shriyansh Gupta
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H. Amin
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
ये चिड़िया
Anamika Singh
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H. Amin
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
*** वीरता
Prabhavari Jha
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
हिरण
Buddha Prakash
"ईद"
Lohit Tamta
तपिश
SEEMA SHARMA
बेजुबान
Dhirendra Panchal
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
"अशांत" शेखर
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
Loading...