Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 25, 2019 · 1 min read

मिटाकर नफ़रतें मन से….. (‘इश्क़-ए-माही’ पुस्तक ग़ज़ल संग्रह से)

मिटाकर नफ़रतें मन से अज़ब इक बीज बोया है
जिसे कहते हो तुम उल्फ़त उसे दिल में संजोया है

वही हमको लगे प्यारी उसी के तो हैं हम शागिर्द
उसी का नाम ले करके ज़माना खूब रोया है

चलो चलकर दिखादें हम ज़माने को नज़ारे अब
हुकुमत चल रही कैसे कहाँ किसने क्या खोया है

उसी की आज रहमत से सदा होती बसर अपनी
कहानी है गज़ब उसकी जिसे दिल में पिरोया है

हटादे रुख़ से हर पर्दा अगर चाहे मेरा ‘माही’
दिखादे अक्स वो सारे जिसे तूने लुकोया है

© डॉ० प्रतिभा ‘माही’

2 Likes · 150 Views
You may also like:
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️मी फिनिक्स...!✍️
'अशांत' शेखर
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
यूं तो लगाए रहता है हर आदमी छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
मतलबी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
देख आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कॉंवड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
आरजू
Kanchan Khanna
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
निज सुरक्षित भावी
AMRESH KUMAR VERMA
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
✍️कृपया पुरुस्कार डाक से भिजवा दो!✍️
'अशांत' शेखर
My eyes look for you.
Taj Mohammad
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr.Alpa Amin
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...