Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 13, 2022 · 1 min read

‘माॅं बहुत बीमार है’

मुझे देख लेती है..
हॅंसकर भी रोती है।
हाथों से चादर की..
सिलवट टटोलती है।

पापा की सांसो की,
व्याकुल सी यादों से,
मन के हर कोने में..
उलझन बेशुमार है।

शीश छुपा लेटी है…
माॅं बहुत बीमार है।।

पवन झाॅंक लेती है
हृदय ढाॅंप देती है
मुस्कुराती दिखती है
नीम की वो छाॅंव है।

उसके है सपनों में
बसा उसका गाॅंव है।
सुधियों में उसकी वो
नहरिया की धार है।

शीश छुपा लेटी है…
माॅं बहुत बीमार है।।

घर जबसे रीता है
मुॅंह उसका फीका है।
वो मुझे पुचकारती
ऑंख छलछलाती है।

छुप-छुप के नज़रें भी
मेरी उतारती है।
चूमती है माथ भी
करती बस दुलार है।

शीश छुपा लेटी है…
माॅं बहुत बीमार है।।

थरथराते हाथ को
मौन हो देखती है।
कुछ दुआएं हाथ जोड़
अंबर तक भेजती है।

अनगिन हैं बातें भी
टूट रहीं सांसें भी।
शून्य जैसा हो रहा
मेरा संसार है।

शीश छुपा लेटी है…
माॅं बहुत बीमार है।।

चाहती हूॅं सजग हो
गीत गाए वो अभी।
रोक लेना चाहती
हाथ में मैं ये सदी।

हैं बड़े अनमोल पल
टूटने मैं भी लगी।
आशीष आलिंगन में
भरा जीवन सार है।

शीश छुपा लेटी है…
माॅं बहुत बीमार है।।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

1 Like · 30 Views
You may also like:
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
గురువు
Vijaykumar Gundal
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
बचपन भी कहीं खो गया है।
Taj Mohammad
इश्क।
Taj Mohammad
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
एक था ब्लैक टाइगर रविन्द्र कौशिक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️लॉकडाउन✍️
'अशांत' शेखर
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️एक फ़रियाद..✍️
'अशांत' शेखर
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
ये सियासत है।
Taj Mohammad
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
पिता
Raju Gajbhiye
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Mamta Rani
Loading...