Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 5, 2022 · 1 min read

मालूम था।

हमारे मरने से उनको ना कोई भी फरक पड़ा है।
मालूम था हमे वह बीते हुए कल में ना रहता है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 41 Views
You may also like:
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
इश्क।
Taj Mohammad
ऐसा क्या है तुझमें
gurudeenverma198
विधवा की प्रार्थना
Tnmy R Shandily
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
'अशांत' शेखर
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पहचान
Anamika Singh
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
अगर ज़रा भी हो इश्क मुझसे, मुझे नज़र से दिखा...
सत्य कुमार प्रेमी
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
मैने देखा है
Anamika Singh
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
कविता
Mahendra Narayan
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
मनोमंथन
Dr.Alpa Amin
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
'इरशाद'
Godambari Negi
Little sister
Buddha Prakash
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
Loading...