Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 9, 2022 · 1 min read

छद्म राष्ट्रवाद की पहचान

बाहर धूप बहुत है, छतरी बिकती, क्यों नहीं,
घर में है सिलेंडर, एक हजार रुपये पास नहीं,

मंगता है मगर, मांगता है पैसे, रोटी खाता नहीं,
भूख नहीं है तलब शराब की,रोटी वहां चलती नहीं,

मंदिर मस्जिद बहुत है, घटते पाप क्यों नहीं,
गिनते है पैसे, चढ़ा दूध दूषित है शुद्ध नहीं,

मरने पर उतारू हो,मन में दया धर्म अहिंसा नहीं,
रोग है लंबा, हकीम करे क्या, दवा के पैसे नहीं,

आधार बेबुनियाद है देशहित के, बराबर क्यों नहीं,
दूसरे धर्मों का दोष भला, इसमें बिलकुल नहीं,

जनमत है बेईमान, संविधान के दोष कतई नहीं,
दोष सारा इसमें,शिक्षा चिकित्सा रोजगार मूलभूत नहीं,

चाहिए था सबकुछ बिन किये, इसमें दोषी तंत्र नहीं,
झण्डे से लेकर, संस्थान देश के अपने नहीं.

अचंभा इसमें क्या हंस, जनता को चूल्हे की फिक्र नहीं,
कथा कहानी प्रवचन चाहिए बेहोशी को, उसमें कमी नहीं.

हंस महेन्द्र सिंह

3 Likes · 1 Comment · 160 Views
You may also like:
यह जिन्दगी क्या चाहती है
Anamika Singh
बुजुर्गों की उपेक्षा आखिर क्यों ?
Dr fauzia Naseem shad
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
"साहिल"
Dr.Alpa Amin
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
"अशांत" शेखर
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
बरसात
Ashwani Kumar Jaiswal
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️✍️वजूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
इश्क भी कलमा।
Taj Mohammad
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'सती'
Godambari Negi
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
ए बदरी
Dhirendra Panchal
मतलबी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
लेखनी
Anamika Singh
हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...