Oct 5, 2016 · 1 min read

मार कोख में बेटी माँ की नज़रों में खुद मरते हो

1
जब अपने ही घर में बेटी को लाने से डरते हो
पूजन कन्याओं का फिर क्यों नवरातों में करते
हो
कृत्य तुम्हारे ऐसे तुमसे माँ खुश कैसे हो सकती
मार कोख में बेटी माँ की नज़रों में खुद मरते हो

2
कभी सम्मान नारी को न घर बाहर कहीं देते
कुचल कर कोख में बेटी जनम लेने नहीं देते
न वो इंसान कहलाने के काबिल हैं जमाने में
उन्हें भगवान भी इक दिन सजा देखो यहीं देते
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 2 Comments · 318 Views
You may also like:
लड़ते रहो
Vivek Pandey
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
हर रोज योग करो
Krishan Singh
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
हाइकु _पिता
Manu Vashistha
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
मिसाइल मैन
Anamika Singh
हसद
Alok Saxena
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
वो
Shyam Sundar Subramanian
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
Loading...