*मामू की शादी में हमने*

मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।
नाचे-कूदे, गाने गाए, जमकर मौज मनाई।

आगे-आगे बैण्ड बजे थे,
पीछे बाजे ताशे।
घोड़ी पर मामू बैठे थे,
हम थे उनके आगे।
तरह-तरह की फिल्मी धुन थीं और बजी शहनाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

नाना नाचे, नानी नाचीं,
नाचीं चाची ताई।
दादा-दादी ने फिर जमकर,
डिस्को डांस दिखाई।
आतिशबाजी बड़े गज़ब की, सबके मन को भाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

दरबाजे पर धूम-धड़ाका,
नाचे सभी बराती।
स्वागत करने सभी वहाँ थे,
रिस्तेदार घराती।
मामी जी ने मामा जी को, वर-माला पहनाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

खाने के तो, क्या थे कहने,
कुछ मत पूछो भाया।
काजू किसमिश मेवे वाला,
हलवा हमने खाया।
कहीं चाँट थी दिल्ली वाली, और कहीं ठंडाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

काजू-पूरी,दाल मखनियाँ,
और नान तन्दूरी।
छोले और भटूरे ने तो,
कर दी टंकी पूरी।
दही-बड़े की डिश मामी ने, जबरन हमें खिलाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

और रात को फेरे-पूजा,
छन की बारी आई।
मामूजी भी बड़े चतुर थे,
छन की झड़ी लगाई।
मौका पाकर साली जी ने, जूती लई चुराई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

भोर हुआ तब धीरे-धीरे,
समय विदा का आया।
दरबाजे पर कार खड़ी थी,
सबका मन भर आया।
सबकी आँखे भर आईं जब, होने लगी विदाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।

यूँ तो मुझको बड़ी खुशी थी,
फिर भी रोना आया।
रोना और बिलखना सबका,
मैं तो सह ना पाया।
सारी खुशियाँ छूमंतर थीं, सुनकर शब्द विदाई।
मामू की शादी में हमने, खूब मिठाई खाई।
***
…आनन्द विश्वास

1 Comment · 200 Views
You may also like:
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
यादें
Sidhant Sharma
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
हे गुरू।
Anamika Singh
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता की सीख
Anamika Singh
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पिता
Madhu Sethi
कविराज
Buddha Prakash
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
# पिता ...
Chinta netam मन
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
pradeep nagarwal
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
Loading...