Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 7, 2016 · 1 min read

मान लो गीत जिन्दगी को

मान लो गीत जिंदगी को
और गुनगुनाना सीख लो ।
जगा लो मन में उमंगें
और मुस्कुराना सीख लो ।
उलझनें हिस्सा हैं जीवन का
सुलझ ही जाएंगी एक दिन ,
बस बार बार उनको हराकर
नैया पार लगाना सीख लो ।
राह कोई सरल मिले अगर
तो लुफ्त उठा लो जी भर ,
मिले जटिल गर कोई डगर
हो निडर गुजरना सीख लो ।
पाकर विजय कंटकों पर
ज्यों सदा मुस्काते हैं फूल,
मानव तुम भी उनके जैसा
मुश्किलों में खिलना सीख लो ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली -47

204 Views
You may also like:
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
गुणगान क्यों
spshukla09179
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#15_जून
Ravi Prakash
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
✍️"बारिश भी अक्सर भुख छीन लेती है"✍️
"अशांत" शेखर
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
तुमको भूल ना पाएंगे
Alok Saxena
✍️मयखाने से गुज़र गया हूँ✍️
"अशांत" शेखर
शबनम।
Taj Mohammad
आया आषाढ़
श्री रमण
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
"अशांत" शेखर
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तेरे होने का अहसास
Dr. Alpa H. Amin
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
Loading...