Oct 12, 2016 · 1 min read

मान जाओ

———–
दिल सच्चा है तो सच्चे दिखोगे
यूँ ही हरदम…….
बच्चों जैसे अच्छे दिखोगे
न द्वेश न कहीं कपट, न घृणा न कहीं भेदभाव
बच्चों जैसा संपूर्ण स्वभाव
क्या रखा है राम रहीम में
खुश नहीं जब एक ही जमीं में त्याग दो तुम ये राग
त्याग दो तुम ये क्लेश….
फर्क क्यों है दिखता बीच हमारे
हम ही आखिर इसके करता- धरता
बनाने में उकसाने में
भला कौन नहीं चाहता सुख चैन. .
खुद के दुश्मन मत बनो
अभी वक्त है संभलने का जैसे हो वैसे ही रहो
अच्छे दिखते हो सच्चे दिखते हो
मन की करुणाई में झांको जरा
जो कहता है उसे मानो ज़रा
दिल सच्चा है तो सच्चे दिखोगे
यूँ ही हरदम …..

1 Like · 261 Views
You may also like:
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
सूरज काका
Dr Archana Gupta
खेत
Buddha Prakash
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
Angad tiwari
Angad Tiwari
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफर
Anamika Singh
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
मेरे पापा
Anamika Singh
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
वो
Shyam Sundar Subramanian
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां
Dr. Rajeev Jain
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
Loading...