Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मानवता

पंक्षी कलरव करते थे निशदिन कैसे बागों में।
रिश्ते भी पिरोये जाते थे तब कच्चे धागों में।।
समय कहीं वो खो गया मानवता कहीं विलुप्त हुई।
आज तो जैसे केवल हिंसा बसती है अनुरागो में।।

मानव ही मानव को मारे रक्षक ही अब भक्षक है।
आज का मानव जैसे कोई दुध पिलाया तक्षक है।।
नाम धर्म का लेता है और रुधिर धरा पर बहता है।
इंसानियत विलुप्त हो रहा कौन अब इसका रक्षक है।।
“©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

311 Views
You may also like:
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
कशमकश
Anamika Singh
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे साथी!
Anamika Singh
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
संत की महिमा
Buddha Prakash
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...