Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 16, 2016 · 1 min read

मात पिता

मात-पिता श्रद्धेय सदा, पूज्य ईश समान
उनके इर्द-गिर्द बसे,अपना सकल जहान
कलयुगी सुत कर रहे, अपमान उनका घोर
करोगे जैसा भरोगे , लीजिये यह जान ।

186 Views
You may also like:
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
अनामिका सिंह
बदरिया
Dhirendra Panchal
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
और कितना धैर्य धरू
अनामिका सिंह
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
गज़लें
AJAY PRASAD
वह प्यार कैसा होगा
अनामिका सिंह
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
शब्दों से परे
Mahendra Rai
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
टूटता तारा
अनामिका सिंह
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
मरने के बाद।
Taj Mohammad
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
पिता
Anis Shah
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...