Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2021 · 1 min read

🙏माता शैलपुत्री🙏

माता शैलपुत्री
*****🙏*****
मां नवदुर्गे की,तू ही है पहली रूप;
करे तेरी आराधना,रंक हो या भूप।
तू है, सारे जग की माता महारानी;
बने तू सदा, भोले शंकर की रानी।
पर्वतराज हिमालय की, तू है पुत्री;
कहलाती है तू ही , माता शैलपुत्री।
बाम हस्त , कमल पुष्प सुशोभित;
दाएं हाथ, सदा धारण करे त्रिशूल।
शांत स्वभाव की, तेरी मुख आभा;
क्षमा करे, निज भक्तों की हर भूल।
जग है बसता , तेरे कदमों में सारी;
पर सदा करे तू , वृषभ की सवारी।
अनंत शक्ति की, तू ही है महारानी;
है सदा,सुख व सिद्धि वर की दानी।
इस जग का , अब कल्याण कर तू;
हे माता कल्याणी, जगदंब भवानी।
पूर्व-जन्म तू ही थी , जगमाता सती;
पिता थे तेरे महान , दक्ष- प्रजापति।
करे सब भक्त-जन, अब तेरी भक्ति;
तुम सबको देना माता, अच्छी मति।
सब जोर से बोलो, “जय माता की”,,,,
*************🙏************

स्वरचित सह मौलिक
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।
तिथि:०७/१०/२०२१

Language: Hindi
8 Likes · 10 Comments · 884 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
⚪️ रास्तो को जरासा तू सुलझा
⚪️ रास्तो को जरासा तू सुलझा
'अशांत' शेखर
फूलों की व्यथा
फूलों की व्यथा
Chunnu Lal Gupta
*मौसम बदल गया*
*मौसम बदल गया*
Shashi kala vyas
सुबह की आहटें
सुबह की आहटें
Ranjana Verma
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ तो रिश्ता है
कुछ तो रिश्ता है
Saraswati Bajpai
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नैन
नैन
Taran Verma
यूं नहीं मिलती सफलता
यूं नहीं मिलती सफलता
Satish Srijan
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
दुःख
दुःख
Dr. Kishan tandon kranti
सफलता की जननी त्याग
सफलता की जननी त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Thought
Thought
Jyoti Khari
दुआ
दुआ
डॉ प्रवीण ठाकुर
*पिचकारी 【कुंडलिया】*
*पिचकारी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
Dr Archana Gupta
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
फ़ासले मायने नहीं रखते
फ़ासले मायने नहीं रखते
Dr fauzia Naseem shad
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
दूर....
दूर....
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धुवाँ (SMOKE)
धुवाँ (SMOKE)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...