Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#24 Trending Author

✍️माटी का है मनुष्य✍️

✍️माटी का है मनुष्य✍️
——————————//
तू सृष्टि,कलुषित
उत्पत्ती है मानव ।
तू दृष्टी पापहीन
वृत्ती है दानव..।।
तू अधीर लोभ
चित्त मोह है मनुष्य ।
तू हृदयी भावनाहीन
लिन भोग है नर ।।
तू बुद्धि शुद्र
नीच रोग है आदम।
सर्व जग नश्वर बन
काया ना देखे ईश्वर ।।
काहे मानव तू
आतुर ईच्छा में।
माटी की घाघर तू
माटी से बन
फिर माटी में ही तो मिले ।।
—————————————//
✍️”अशांत”शेखर✍️
07/06/2022

4 Likes · 9 Comments · 95 Views
You may also like:
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
पसीना।
Taj Mohammad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
Security Guard
Buddha Prakash
आप कौन है
Sandeep Albela
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
मां
Dr. Rajeev Jain
हर रोज़ ही हम।
Taj Mohammad
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
शेर राजा
Buddha Prakash
Loading...