Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author

माटी का पुतला

अरे मानव ! मत कर अभिमान तन का ,
तू कुछ भी नहीं एक माटी का पुतला है।

यह तेरा तन जिस पर तुझे अभिमान है ,
धोखा है ! परंतु तू समझे तू रूपवान है!

अंदर भरा है खून,मवाद,मल मूत्र आदि ,
बस हाड़ मांस ने उस पर परत चढ़ादी।

तू रेशमी वस्त्र पहनकर दिखे मोहक,
मगर तेरा कंकाल दिखे बड़ा भयानक ।

यह तेरा मन तेरे ही वश में नहीं रहता ,
महत्वाकांक्षाओं से तुझे नाच नचाता।

यही मन तुझसे क्या कुछ न करवाए ,
तुझसे बड़े जघन्य अपराध करवाए ।

जब तू करे कुकर्म बड़ा भयानक दिखे,
तू अपराध में लिप्त कोई चांडाल दिखे ।

भगवान ने तुझको दी थी पवित्र आत्मा,
जिसे जमीर कहते है ये वही अंतरात्मा।

मगर उस जमीर की सुने कभी सुनी नही ,
तू मस्ती में रहा मौत की आहट सुनी नही ।

तू भूल गया तू तो माटी का पुतला ही था ,
जिसे आत्मा ने अबतक जीवित रखा था ।

आत्मा देह छोड़ गई,काहे की रूप सज्जा ,
धरा रह गया अभिमान और महत्वाकांक्षा।

तुझमें कोई खूबी नहीं,फिर भी अकड़ता है,
खोखला सा अस्तित्व है फिर भी इतराता है।

3 Likes · 6 Comments · 410 Views
You may also like:
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन मेला
DESH RAJ
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️ये सफर मेरा...✍️
"अशांत" शेखर
*फल- राजा कहलाता आम (गीतिका)*
Ravi Prakash
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
✍️लोकशाही✍️
"अशांत" शेखर
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️इश्क़ से उम्मीदे बाकी है✍️
"अशांत" शेखर
Loading...