Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 17, 2016 · 1 min read

माज़ी

याद माज़ी की जब भी आती है.,
पूछ मत किस क़दर रुलाती है.!
यूँ समझ ले कि ज़िन्दगी उस दम.,
ग़म के दरिया में डूब जाती है..!!

( ख़ुमार देहल्वी )

1 Like · 185 Views
You may also like:
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
कवि
Vijaykumar Gundal
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr. Alpa H. Amin
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
लाल टोपी
मनोज कर्ण
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H. Amin
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️याद✍️✍️
"अशांत" शेखर
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
जख्म
Anamika Singh
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...