Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 1 min read

माई

पाती भेजववले बानी भउजी मोर रोवतानी ,
लिखतानी परसों से बाबू जी ना सुतल बानी ,
सांस फुलताटे नइखे माई के दवाई बा ।
कइसे कहीं बबुआ बेमार मोर माई बा ।।

नइखे अब किसानी में कमाई कचरकुट बा ,
लागता की हमनी बीचे डालत केहू फुट बा ,
भइया के समइया बिगरल राम लेखा भाई बा ।
कइसे कहीं बबुआ बेमार मोर माई बा ।।

दु दु गो भतीजा चहकें अंगना दुआर पे ,
कहे न सों चाचा अइहें अबकी त्योहार पे ,
होखे वाला बाटे छोटकी बहिन के बिदाई बा ।
कइसे कहीं बबुआ बेमार मोर माई बा ।।

जी ना पाइब ताना मारी लोगवा जहान हो ,
माई ना बस माई होलीं होलीं भगवान हो ,
उनकर रहल हमहन खातिर दुआ आ दवाई बा ।
कइसे कहीं बबुआ बेमार मोर माई बा ।

✍️ धीरेन्द्र पांचाल

226 Views
You may also like:
कुछ बारिशें बंजर लेकर आती हैं।
Manisha Manjari
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr.Alpa Amin
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बे'एतबार से मौसम की
Dr fauzia Naseem shad
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
.✍️कबीर-मुर्शिद मेरा✍️
'अशांत' शेखर
वक्त की चौसर
Saraswati Bajpai
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
दिल एक उम्मीद को तरसता है
Dr fauzia Naseem shad
वजह क्या हो सकती है
gurudeenverma198
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
इंतजार
Anamika Singh
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
बस तू चाहिए।
Harshvardhan "आवारा"
मेरी हस्ती
Anamika Singh
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
कारस्तानी
Alok Saxena
इच्छा
Anamika Singh
धीरता संग रखो धैर्य
Dr.Alpa Amin
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
Loading...