Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 31, 2022 · 1 min read

माई री [भाग२]

ओ माई मेरी ओ माई मेरी
करके तु मेरी विदाई,
मुझे अकेला क्यों छोड़ दिया।
तुझको क्या मालूम है माई री
तेरे बीन मैं हो गई कितनी अकेली।
कोई नहीं है तेरे जैसी माई री
मेरी यहाँ पर पक्की सहेली।

तु थी तो खेल – खेल में ही
मेरा हर दर्द हर लेती थी।
मेरे हर प्रश्नों का उत्तर
झट से हल कर देती थी।
तेरी आँचल की छाया में
सकून बड़ा मिलता था।

जीवन का हर पल, हर क्षण।
हँसते- हँसते कट जाता था
तेर रहते कोई गम माई
मुझ तक नहीं आता था।
लगता है माई मेरी,
वह गम तुझसे डर जाता था।

आज मेरे मन में माई री
कितने प्रश्न उमड़ रहें हैं।
तुझसे उत्तर की तलाश में
यह नयन हमारे तुझे ढूंढ रहे है।
यह कैसी पहेली है माई री
जो मुझे समझ है नहीं आया।

तुही बता दे माई मेरी
इन प्रश्नों का उत्तर
इतनी कष्टों से जन्मीं तू
नाजों से मुझको पाला।
मेरे सपनों के संग तुमने
अपना सपना जोड़ डाला।

अपने खुन के कतरे से मुझे
पुरा कर इस दुनियाँ में लाया।
फिर क्यों कहती रही सदा
मुझको तुम पराया।
इन प्रशनों का उत्तर माई मेरी
क्या तुम्हें मिल पाया।

मिल जाए तो मुझे भी बता देना माई मेरी।
बेटी को लोग क्यों कहते है पराया।

~ अनामिका

3 Likes · 117 Views
You may also like:
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
आस्तित्व नही बदलता है!
Anamika Singh
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां।
Taj Mohammad
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
बचपन की यादें।
Anamika Singh
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
नहीं रहता
shabina. Naaz
हम समझते थे
Dr fauzia Naseem shad
वो हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
चाहत
Lohit Tamta
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...