Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 8, 2022 · 1 min read

मां

मां का एक दिन नहीं, मां से ही सब दिन है….
मां ही दिन का उजाला है,
मां ही शक्ति है,
मां ही ऊर्जा है,
मां की प्रेणना ही सही रास्ता बताती है,
मां की आस ही हमको तरकी के द्वार तक पहुंचाती है,

मेरी मां ही मेरे पिता हैं,
मां ही मेरा आधार है…

उमेंद्र

73 Views
You may also like:
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
मन की बात
Rashmi Sanjay
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिता
Keshi Gupta
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मंदिर
जगदीश लववंशी
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
Loading...