Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 25, 2022 · 1 min read

मां

सर्दी की गुनगुनी धूप सी हो तुम..
गर्मी में हरे वृक्ष की छांव हो तुम..
बारिश में रिमझिम सी बूंद हो तुम..
बसंत में खुशबू बिखेरती कली हो तुम..
मां तुम्हे क्या परिभाषा दूं?
और क्या तुम्हें विशेषण दूं?
इस धरती की सारी उपमाओं से परे हो तुम!!
कभी थकती नही, और तरोताजा हो जाती हो मेरी एक मुस्कान से..
कैसे पढ़ लेती हो शिकन मेरे चेहरे के!
तुम्हें परी कहूं या जादूगर!
जो “ममता “के आंचल की छड़ी घुमा,
हर लेती हो मुश्किल मेरी..
और भर देती हो नए हौंसले से
भरने फिर से नई उड़ान!!
✍️अंजना

1 Like · 123 Views
You may also like:
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
Baby cries.
Taj Mohammad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
राम
Saraswati Bajpai
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
कुछ ना रहा
Nitu Sah
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
मतदान का दौर
Anamika Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
Loading...