Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मां

माँ

माँ, एक सबद कोनी पूरी पोथी है
मां कदै दैवकी कदै यशोदा है ।
जन्म जन्म सू नाता है
दूजै धरती माथै विधाता है
जन्म सू रगत संबंध राखै
मां पालण रो हद संगम है ।

माँ, एक सबद कोनी पूरी पो़थी है
कदै देवकी, कदै यशोदा है
दुःख में सुख री छाया
हार में जीत री माया
भूख में खुद अन्नपूर्णा
मुसीबत में मां भवानी सरुपा है ।

माँ, एक सबद कोनी पूरी पोथी है
कदै देवकी, कदै यशोदा है
लव-कुश रे प्रेरणा री धार
सभ्यता-संस्कृति री आधार
भगतसिंह वसुंधरा रो सपूत महान
माँ ने किधौ ममता रो बलिदान।
माँ, एक सबद कोनी—— यशोदा है।

©हरीश सुवासिया
देवली कला (पाली)

126 Views
You may also like:
शून्य से अनन्त
D.k Math
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
बेटी का संदेश
Anamika Singh
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
संगम....
Dr. Alpa H. Amin
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Surabhi bharati
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
श्रृंगार
Alok Saxena
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
Loading...