Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 9, 2022 · 1 min read

मां

कोई नहीं मिलता
अब रूठ जाने को
बिना मतलब अपनी
हनक दिखाने को
वो मां तेरी याद आती है

हर कोई मान जाता है
कह दूं
खा के आया हूं
वो परस लाती थी
थाली , कह देने पर भी
वो मां तेरी याद आती है

जैन साहब तो कुछ
नहीं बोलते
बस मेमसाब बोलती है
आगे आके बचा लेती
उठते बच्चों पर सवाल
को ढाल बनकर
वो मां तेरी याद आती है

गतिरोध उभरते रहते
जब भी आपस में विचारों
के , घर में
जो कुछ हिस्सा कथन मेरा
कुछ हिस्सा कहा पिता का
छिपा के, बात बनवा देती
वो मां तेरी याद आती है

उसका कोई अपना पक्ष न हो
ऐसा नहीं था
पर जब घर में दो पक्ष हो जाएं
तो उसका पक्ष , दोनो पक्षों को
एक कराना हो
तो मां तेरी याद आती है

कितनी गलतियां मेरी
न आ पाई सामने सबके
उनको छुपाना
उस बृहद आंचल में
वो मां तेरी याद आती है

बहुत दिन हुआ
किसी ठीक से कहा ही नहीं
बहुत थक गया होगा
आराम कर ले
वो मां तेरी याद आती है

डा. राजीव सागर
सागर म. प्र.

1 Like · 2 Comments · 122 Views
You may also like:
✍️जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
मरने के बाद।
Taj Mohammad
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
कभी कभी।
Taj Mohammad
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
"अशांत" शेखर
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
वतन से यारी....
Dr. Alpa H. Amin
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
पिता
Neha Sharma
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...