Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 1 min read

मां शारदे

मां शारदे मेरे मन मंदिर में आओ
मां शारदे मेरे मन मंदिर में आओ
ज्ञान का दीप जलाओ
अज्ञान का तिमिर मिटाओ
मधुर मधुर गीत मुख से निकले
करुणामई मां मन की बात मुख से निकले
मन भी खुश हो, तन भी खुश हो
नजर की कृपा आपकी हो
धवल वस्त्र धारणी मां
करुणा की भंडारे मां
शास्त्रों की रचयिता मां
ज्ञान का दीप जलाओ मां
विद्या का दो वरदान
जिससे हो मानव का कन्याण
’अंजुम’ आपके चरण कमलों में करें गुनगान
जीवन सरल लक्ष्य हो महान

नाम-मनमोहन लाल गुप्ता ’अंजुम’
मोहल्ला जाब्तागंज, नजीबाबाद, जिला-बिजनौर, यूपी
मोबाइल-9152859828

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 246 Views
You may also like:
गुरु महान है।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
एक झलक
Er.Navaneet R Shandily
आधा चांद भी
shabina. Naaz
वफा और बेवफा
Anamika Singh
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
बारिश की बूंदें
Kaur Surinder
कुछ ना रहा
Nitu Sah
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
कक्षा नवम् की शुरुआत
Nishant prakhar
क्षमा
Shyam Sundar Subramanian
दीपक
MSW Sunil SainiCENA
🍀🌺मैंने हर जगह ज़िक्र किया है तुम्हारा🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
क्या करें वे लोग?
Shekhar Chandra Mitra
*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
- में अनाथ हु -
bharat gehlot
राष्ट्र जाति-धर्म से उपर
Nafa Singh kadhian
कितना तेरा मैं इंतिज़ार करूं
Dr fauzia Naseem shad
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अब रुक जाना कहां है
कवि दीपक बवेजा
■ गीत / सामयिक परिप्रेक्ष्य में
*प्रणय प्रभात*
शेर
Shriyansh Gupta
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
"जया-रवि किशन" दोहे संवाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
Loading...