Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

🌹मां ममता की पोटली

मां ममता की पोटली
जित खोलो उत प्रेम।
बालक को भगवान-सम
दिखती बन कर क्षेम।
दिखती बन कर क्षेम
दिव्य ममता का ✓पौदा
रखती हरा सदैव
अमल है त्याग घरौंदा।
‘नायक’ सुनो सुजान
सुखी बालक के ✓✓सुख मां
जीवनदातारूप
बने बच्चों की, हर मां

🌹शब्दार्थ
✓पौदा=पौधा
✓✓सुख मां=सुख में

पं बृजेश कुमार नायक

1 Like · 306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
दिल पे क्या क्या गुज़री ghazal by Vinit Singh Shayar
दिल पे क्या क्या गुज़री ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
'वर्षा ऋतु'
'वर्षा ऋतु'
Godambari Negi
भक्त कवि श्रीजयदेव
भक्त कवि श्रीजयदेव
Pravesh Shinde
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगर तुम सावन हो
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
कैसे मिले सम्मान / नरेन्द्र वाल्मीकि
कैसे मिले सम्मान / नरेन्द्र वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
#नुबारकबाद
#नुबारकबाद
*Author प्रणय प्रभात*
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अल्फाज़ ए ताज भाग-2
अल्फाज़ ए ताज भाग-2
Taj Mohammad
हाय गर्मी!
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
✍️उत्सव और मातम…
✍️उत्सव और मातम…
'अशांत' शेखर
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
एक फौजी का अधूरा खत...
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
Loading...