Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2022 · 1 min read

मां बाप

जो लाखों के बात करते हैं।
उनकी मां बाप की जिंदगी
ओल्डज होम में गुजर जाती है।
मजदूर की जिंदगी तो
मां बाप की सेवा में गुजर
जाती है।

सुशील चौहान
फारबिसगंज अररिया बिहार

Language: Hindi
92 Views
You may also like:
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बन गई पाठशाला
बन गई पाठशाला
rekha mohan
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
जस का तस / (नवगीत)
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलो चले कुछ करते है...
चलो चले कुछ करते है...
AMRESH KUMAR VERMA
परछाई
परछाई
Dr. Rajiv
विद्या की देवी: सावित्रीबाई
विद्या की देवी: सावित्रीबाई
Shekhar Chandra Mitra
2245.
2245.
Dr.Khedu Bharti
*मौसम बदल गया*
*मौसम बदल गया*
Shashi kala vyas
मदर टंग
मदर टंग
Ms.Ankit Halke jha
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ऐसे इंसानों से नहीं कोई फायदा
ऐसे इंसानों से नहीं कोई फायदा
gurudeenverma198
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
:: English :::
:: English :::
Aksharjeet Ingole
✍️दोस्ती ✍️
✍️दोस्ती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
चेहरे उजले ,और हर इन्सान शरीफ़ दिखता है ।
Ashwini sharma
अगर तोहफ़ा देने से मुहब्बत
अगर तोहफ़ा देने से मुहब्बत
shabina. Naaz
जितनी शिद्दत से
जितनी शिद्दत से
*Author प्रणय प्रभात*
कैसे कह दूं
कैसे कह दूं
Satish Srijan
"डॉ० रामबली मिश्र 'हरिहरपुरी' का
Rambali Mishra
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
सीने में जलन
सीने में जलन
Surinder blackpen
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
Loading...