Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
May 2, 2022 · 1 min read

मां-बाप

आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
वो देखो मां-बाप कितना जार जार रो रहे हो।।

चुन चुन कर ख्वाबों से यूं सजाया था।
दीवारों दर तो छूटा ही है रिश्ते भी खो रहे है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

103 Views
You may also like:
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हनुमंता
Dhirendra Panchal
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
ये माला के जंगल
Rita Singh
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
हिंदी दोहा-टोपी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
फूल की महक
DESH RAJ
पिता
Santoshi devi
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुलबुला
मनोज शर्मा
✍️बुनियाद✍️
"अशांत" शेखर
Loading...