Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2022 · 2 min read

मां की परीक्षा

मां की परीक्षा

आज एक वाक्या क्या हुआ,
फिर वहीं अदालत, वही तोहमतो में लिपटी,
मां का चरित्र तार-तार हुआ ।
करके दो हाथ, थे वो चार,
लेकर हाथ में दांत,
कुल का दीपक जो घर आया था।।

मां का कलेजा बाहर आने को था,
न दांत दिखे, न घाव दिखे,
लड़कर, गुंडा जो बन आया था।
वही खून में उबाल
जो था दादा, पापा, चाचा में,
पोते में भी उतर आया था।।

जवानी उफान में थी, होश भी कुछ-कुछ था,
मसल कर रख दूंगा पाला एक जुनून था।
जाने कर कॉल कितनों को बेटे ने दुखड़ा उस रात सुनाया था,
दोस्तों ने भी चिंगारी को दे हवा, कर्तव्य अपना खूब निभाया था।।
कर कब प्लानिंग, गैंगअप को
समझ न पाई मां बेचारी,
तूफान से पहले वाले शांति
भांप न पाई मां बेचारी।।

कर घायल किसी मां के कलेजे के टुकड़े को मेरा सपूत घर आया था,
कर कांड मारधाड़ का वो आंचल में मेरे आकर सोया था।।
पुलिस केस अब बन सकता है, भविष्य खतरे में पड़ सकता है,
खुली आंख अब तो वह जागा था, सपना देखा जो बुरा, सच्चा हो सकता था।।
मां ठहर गई, सहम गई, जाने क्या कमी रह गई,
प्रेम, विश्वास से बनी इमारत पल में ढह गई।।
परीक्षा मां को अभी देनी बाकी थी,
सवालातों की झड़ी अभी बाकी थी।।
परवरिश पे था जो गुरूर ,सबूत देना अभी बाकी था,
पाला पोसा था जिस परिवेश में, पहचान देना अभी बाकी था।।
नई उम्मीद का मकान अभी बाकी था,
, मां का सारा सच अभी बाकी था।
मां की शिक्षा का परिणाम अभी बाकी था,
परिचायक की दीक्षा का परिमाण अभी बाकी था।।

सीमा टेलर (छिम़पीयान लम्बोर)

1 Like · 92 Views
You may also like:
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️अंजानी नजर✍️
'अशांत' शेखर
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
चित्रगुप्त पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक नायाब मौका
Aditya Prakash
💐💐मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ एक दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
#पंजाबनगर_शिव_मंदिर
Ravi Prakash
रोशन सारा शहर देखा
कवि दीपक बवेजा
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
विश्व मानसिक दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
ये उम्मीद की रौशनी, बुझे दीपों को रौशन कर जातीं...
Manisha Manjari
गीतकार मजरूह पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क की खुशबू।
Taj Mohammad
क्यूं कर हुई हमें मुहब्बत , हमें नहीं मालूम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्या करूँगा उड़ कर
सूर्यकांत द्विवेदी
Indian Women
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Loading...