Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#29 Trending Author

🙏मॉं कालरात्रि🙏

“मॉं कालरात्रि”
****🙏****

जय जय महामाया, स्याहवर्ण है तेरी काया;
तू माता जगतप्यारी,सदा अंधकाररूपधारी;
सदैव शुभ फल देनेवाली , माता ‘शुभंकारी’;
भक्त-जन पूजे तुमको, सदा दिन और रात्रि;
जब भी आती है माता, इस जग में नवरात्रि;
सप्तमरूप में जानी जाती तू, मां कालरात्रि;
तू है ‘कपालिनी’ मां तू भयानक रूपधारणी;
हे ‘मातारानी’, तेरे अलक भी बिखरे हैं सारे;
गले में तुम, चमकती सी मुंड-माला को धारे;
माता तू ही,’ भैरवी”महाकाली’ भद्रकाली’ है;
जगजननी तू, ब्रह्मांड सा गोल’त्रिनेत्रधारी’है;
हे ‘जगमाता’,’बैशाखनंदन’ ही तेरी सवारी है;
क्रोध में तेरे मुख से, अग्नि-ज्वाला धधकती;
हे जगकल्याणी,सबजन करे सदा तेरी भक्ति;
तू ही ‘चंडी’कहलाती मां,तू चार भुजाधारी है;
तुम ही माता,’रूद्राणी’ है, तू ही मां’कराली’है;
अपने दोनों हाथ तूने,कांटे और कटार लिया;
हे माता, दैत्य-दानव का तूने ही संहार किया;
अभयमुद्रा,वरमुद्रा से,भक्तों का उद्धार किया;
हे ‘मातारानी’, तू ही ‘काली’ तू ही ‘भवानी’ है;
हे मां महाबला,तुम ही भोलेशंकर की रानी है;
हे जगधारिनी मांकाली,माता सर्वसुरविनाशा;
तेरे भय से; दैत्य, दानव, भूत, प्रेत सब कांपा;
तू माता चामुंडा,तुम ही चंड-मुंड विनाशिनी है;
हे माता योगमाया,तू ही तो सर्वपापनाशिनी है;
शुंभ-निशुंभ को देख,जब तुमको क्रोध आया;
श्यामल बन तू,देवी कौशिकी से उसे मरवाया;
हर ‘नर-नारी’ पूजन करे , कालरात्रि माता की;
तुम भी बोलो , ‘जय माता दी’ ‘जय माता दी’।
*****************🙏****************

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।
तिथि: १२/१०२०२१

4 Likes · 4 Comments · 558 Views
You may also like:
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
एकाकीपन
Rekha Drolia
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
सुरज दादा
Anamika Singh
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
✍️हम भारतवासी✍️
"अशांत" शेखर
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️✍️रूपया✍️✍️
"अशांत" शेखर
जवानी
Dr.sima
प्रकृति का क्रोध
Anamika Singh
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H. Amin
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
Security Guard
Buddha Prakash
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
होली का संदेश
Anamika Singh
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
Loading...