Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2022 · 1 min read

मांडवी

आओ सुनाऊं एक अनजानी विरहनी की गाथा
अप्रतिम सौंदर्य की थी वह मल्लिका
कुशध्वज चंद्रभांगा की वह थी लाड़ो शहजादी
रामायण की नायिका की थी वह अनुजा
नार वह विदुषी और गौरा की अनन्य भक्तिनी
प्रतिछाया थी वह अपनी भगिनी जानकी की
वटवृक्ष सीता चरित्र का जन जन करता गुणगान
वह पौध भी पली उसी बरगद के तले
कोई मनुज भी उसे न देख और न जान पाया
मैथिली शरण ने उसे किया गुमनामी से बाहर
उसके त्याग और विरह का किया खूब बखान
कैकई के वरदानों पर बनी रही दृष्टा तटस्थ
साध्वी जैसे हृदय ने विरक्त भाव ही जताया
सीताराम के हित को ही सर्वोपरि उसने माना
देख पति भरत का राम समर्पण सम्मान ही जताया
नंदीग्राम की पर्णकुटी में साध्वी बन जीवन बिताया
आत्मनियंत्रण बल की थी वह स्वामिनी शहजादी
उस विरहिनी का दर्द कोई मनुज समझ न पाया
इतिहास के पन्नों पर कभी न स्थान अपना बनाया
जैसे सैनिक का शौर्य नायक के ही हिस्से आया
उसकी कुर्बानियों पर मैं बलिहारी हुई हूं जाती
रामायण ने भी उस विरहनी को न अपनाया

108 Views
You may also like:
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
राह के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
रेत   का   घर 
Alok Saxena
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
✍️इंतजार में सावन की घड़ियां✍️
'अशांत' शेखर
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
खुशबू
DESH RAJ
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
इंतजार
Anamika Singh
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
बचपन की यादें
Anamika Singh
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
बेरूखी
Anamika Singh
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचित्र प्राणी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
Loading...