Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2021 · 1 min read

माँ

विधा – स्वैच्छिक
दिनांक -०5/०6/२१
*******************
तेरी सूरत से नहीं मिलती किसी की सूरत मेरी माँ
तूं भगवान का दूसरा रूप दिखता सदा मुझको माँ.
तू ममता में यशोदा सी प्यारी, खुशियाँ देती माँ ,
खुशियाँ देती हमको तू सारी बिन पुकारी पर भी माँ
रोक हर गलत काम से सीधी राह सुगम लाती माँ.
माँ शब्द बोल में इतना मीठा बन जाता अनमोल माँ
मनचाहा पकवान हमे खिलाती और गम से बचाती माँ .
दिशा देकर जीवन चलना हर राह सिखाया बढ़ाया माँ
हर मुश्किल में निर्णायक दायित्व सदा निभाया माँ.
अच्छे बुरे फर्क समझाकर हर पथ सुगम बनाया माँ
हर बात समझकर जीवन अतुलनीय मनोरम पाया माँ.
त्याग की भावना मूरत हर को देती खुशियाँ समझाकर
माँ का आचल की छांव मुस्कान ठहरा सागर सा माँ.
स्वरचित –रेखा मोहन 5/6/२१ पंजाब

1 Comment · 322 Views
You may also like:
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
✍️✍️वहम✍️✍️
'अशांत' शेखर
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*राजनीति में बाहुबल का प्रशिक्षण (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
✍️हम भारतवासी✍️
'अशांत' शेखर
✍️सिर्फ…✍️
'अशांत' शेखर
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
Ravi Prakash
*यात्रा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक प्रश्न
Aditya Prakash
✍️बुलडोझर✍️
'अशांत' शेखर
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
घड़ी और समय
Buddha Prakash
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
एक बावली सी लड़की
Faza Saaz
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️बचपन से पचपन तक✍️
'अशांत' शेखर
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
✍️"नंगे को खुदा डरे"✍️
'अशांत' शेखर
Loading...