May 10, 2020 · 1 min read

माँ

माँ:-
रातों को जाग कर उसने, हमें सुलाया है,
खुद भूखे रह लिया, लेकिन हमें खिलाया है,
धूप में खड़ी रही है माँ, सारी उम्र पिता बन कर,
पर माँ ने हमें छाँव में जीना सिखाया है।
हमारी ज़रा-सी दर्द से, बेचैन हो फिरती है,
हमें तकलीफ में देख, सौ बार मरती है,
ताक़तवर नहीं है, हमारे लिए सबसे लड़ती है,

माँ योद्धा है, वीर है,
माँ नदी है, नीर है,
माँ फूल सी कोमल
माँ चट्टान सी मजबूत,
माँ धूप सी तेज़
माँ छाया की रूप,
माँ शब्द है शायर की
माँ हर्फ़ है आयात की,
माँ है तो सब है
माँ है तो रब है,
माँ बिन माँगी दुआ है
माँ हर मर्ज़ की दवा है,
माँ है तो गीत है
माँ है तो सब रीत है,
माँ है तो रिश्तों में मिठास है
माँ है तो सागर में भी प्यास है।
-सरफ़राज़

3 Likes · 1 Comment · 126 Views
You may also like:
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
मां
Dr. Rajeev Jain
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
Little baby !
Buddha Prakash
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
याद आते हैं।
Taj Mohammad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"साहिल"
Dr. Alpa H.
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
दहेज़
आकाश महेशपुरी
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H.
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...