Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 3, 2017 · 1 min read

माँ

*माँ *
माँ तो माँ है,
मांँ से न कोई महान है।
मांँ के भीतर बसी सारी दुनिया जहान है।
मांँ वो शख्सियत है जो सींचती,
हमारे तन-मन और प्राण है।
मांँ से ही संचालित हो रहा संसार है।
मांँ के हर कदम से संतान का होता कल्याण है।
बिन माँ के हर प्राणी का जीवन बेजान है।
मांँ के चरणों तले जीवन है जान है।
मांँ है तो हर प्राणी का जीवन आसान है।
बिन मां के जीवन दुखों की खान है।
मांँ ईश्वर का दिया हुआ एक वरदान है।
सच पूछो तो
इस पृथ्वी पर मांँ साक्षात भगवान् है।।।

–रंजना माथुर दिनांक 16/08/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
@ copyright

322 Views
You may also like:
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
आस
लक्ष्मी सिंह
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात
मनोज कर्ण
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
Loading...