Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
May 8, 2022 · 1 min read

माँ पर तीन मुक्तक

1
हमारे दिल में आशा का नया सूरज उगाती है
कवच बनकर हमें माँ ही बलाओं से बचाती है
सतत सन्तान के सुख को बढ़ाने में लगी रहती
जहाँ काँटे बिछे दिखते वहाँ आँचल बिछाती है
2

भोर सुनहरी रात रुपहली, जीवन की हरियाली माँ
पीती खुद ग़म की हरप्याली,घर लाती खुशहाली माँ
माँ से ही घर घर लगता है,माँ बिन रहता सूनापन
आँगन की तुलसी, रंगोली, है होली दीवाली माँ
3

सिखलाती है सत्य बोलना, झूठ बोलती खुद रहती
बच्चों के हित के खातिर माँ , नई कहानी नित क हती
कितना प्यारा रिश्ता होता है माँ का बच्चों के सँग
अपनों की खुशहाली को वह ,जग के सारे दुख सहती

08-05-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

4 Likes · 1 Comment · 104 Views
You may also like:
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
धोखा
Anamika Singh
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
चाहत
Lohit Tamta
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
हम सब एक है।
Anamika Singh
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
हम जलील हो गए।
Taj Mohammad
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...