Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

माँ लोखी

शरद ‘कोजागरी’ या ‘उजागर’ पूर्णिमा में होती है लक्खी पूजा। मूलत: बंगाल में लक्खी पूजा का प्रचलन है और मनिहारी क्षेत्र भी बंगाली संस्कृति से जुड़ी है ! लक्खी में ‘ख’ बांग्ला टोन है, ‘क्ष’ के लिए ! बांग्ला में लक्खी को लोखी भी कहते हैं !

कहा जाता है, लक्ष्मी-गणेश पूजन से इतर बिल्कुल सामान्य लोगों ने ‘लक्खी’ शब्द प्रचलित कर इसे जनसाधारण के लिए प्रचार-प्रसार किया, जैसे- संस्कृत के ‘रामायण’ को सरल, सहज और सुगम बनाने को लेकर अवधी व खड़ी बोली में ‘रामचरित मानस’ की रचना हुई !

माँ लक्खी को समृद्धि की प्रतीक देवी मानी गयी है ! आज हमारे यहाँ मूर्त्तिकारों व कुम्हारों के यहाँ लक्खी प्रतिमा क्रय करने को लेकर काफी भीड़ है । यह पूजा आश्विन पूर्णिमा यानी शरद पूर्णिमा में होती है, जिसे कोजागर व कोजागरी या उजागर व उजागरी पूर्णिमा भी कहते हैं !

2 Likes · 177 Views
You may also like:
दिल पे क्या क्या गुज़री ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Er. M. Kumar
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर किसी की बात नही
Anamika Singh
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
मेरी आँखे
Anamika Singh
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
किसी का जला मकान है।
Taj Mohammad
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
✍️मोहब्बत की राह✍️
'अशांत' शेखर
न्याय
Vijaykumar Gundal
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
Loading...