Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2021 · 1 min read

माँ रो देती थी

मेरी मां दुनिया की सबसे अच्छी माँ है
मैं ये जब कहता था तो माँ रो देती थी
मैं अपनी नींद तक ढूंढ नही पाता खुद से
उंगलियों से मेरे बालों में माँ उसको ढूंढ देती थी
दूर जाता था तो माँ के आंसू देखे थे मैंने
घर मे आता था तो हँस के माँ रो देती थी
कभी चोट लगती थी मुझको बताता नही था मैं
देखकर मुझको न जाने क्यों माँ रो देती थी
जान नही पाया इतने आंसू कहाँ से लाती थी वो
मैं पूछता था माँ से तो माँ रो देती थी
आज जब बाप बना रो दिया मैं देखकर नन्ही जान को
अब मैं जानता हूं क्यों माँ रो देती थी

3 Likes · 217 Views
You may also like:
✍️बहोत गर्मी है✍️
'अशांत' शेखर
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
✍️ते मोगऱ्याचे झाड होते✍️
'अशांत' शेखर
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
Nurse An Angel
Buddha Prakash
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
'धरती माँ'
Godambari Negi
समझे ये हमको
Dr fauzia Naseem shad
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
✍️खुदाओं के खुदा✍️
'अशांत' शेखर
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
पिता
Madhu Sethi
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
कविता को बख्श दो कारोबार मत बनाओ।
सत्य कुमार प्रेमी
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...