Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 27, 2022 · 1 min read

‘माँ मुझे बहुत याद आती हैं’

जब तरल सुबह, तपती बातें, मन उद्वेलित कर जाती हैं।
होठों पर स्मित सजल लिये, माँ मुझे बहुत याद आती हैं।।

पक्षी कलरव और पत्तों संग,
सड़कें सजती-सुसताती
हैं।
तब बांँट जोहती आँखो संग,
माँ मुझे बहुत याद आती
हैं।।

कोई शाख फलों का भार लिए, सर झुका नमन करती दिखती।
तब उचक देखती खिड़की से, माँ मुझे बहुत याद आती हैं।।

रिश्तों के कच्चे धागों संग,
बातें बदरंगी उलझ पड़ें।
तब अश्रु छिपातीं, मुस्कातीं,
माँ मुझे बहुत याद आती
है।।

थकता, बोझिल, हर भाव लगे, कदमों की जब रफ्तार रूके।
लादे अनुभव की गठरी सी, माँ मुझे बहुत याद आती हैं ।।

अब रच पाऊँगी सपन नहीं,
आँखें बोझल मुँद जाती हैं।
बाँहें फैलाये जीवन सी..
माँ मुझे बहुत याद आती हैं।।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

1 Like · 1 Comment · 128 Views
You may also like:
अपने कदमों को बस
Dr fauzia Naseem shad
फर्क़ ए मुहब्बत
shabina. Naaz
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
हर इक वादे पर।
Taj Mohammad
ये हरियाली
Taran Singh Verma
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
'अशांत' शेखर
✍️मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
'अशांत' शेखर
माँ की याद
Meenakshi Nagar
विषपान
Vikas Sharma'Shivaaya'
वक्त की चौसर
Saraswati Bajpai
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Alpa
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
साथ
साहित्य गौरव
*आजादी का अमृत महोत्सव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देख कर
Dr fauzia Naseem shad
✍️सुकून✍️
'अशांत' शेखर
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
Loading...