Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

“माँ मुझे डर लगता है”?

मां मुझे डर लगता है . . . .
बहुत डर लगता है . . . .
सूरज की रौशनी आग सी लगती है . . . .
पानी की बुँदे भी तेजाब सी लगती हैं . . .
मां हवा में भी जहर सा घुला लगता है . .
मां मुझे छुपा ले बहुत डर लगता है . . . .

मां….
याद है वो काँच की गुड़िया, जो बचपन में टूटी थी . . . .
मां कुछ ऐसे ही आज में टूट गई हूँ . . .
मेरी गलती कुछ भी ना थी माँ,
फिर भी खुद से रूठ गई हूँ . . .

माँ…
बचपन में स्कूल टीचर की गन्दी नजरों से डर लगता था . . . .
पड़ोस के चाचा के नापाक इरादों से डर लगता था . . . .
अब नुक्कड़ के लड़कों की बेख़ौफ़ बातों से डर लगता है . .
और कभी बॉस के वहशी इशारों से डर लगता है . . . .
मां मुझे छुपा ले, बहुत डर लगता है . . .

मां….
तुझे याद है मैं आँगन में चिड़िया सी फुदक रही थी . . . .
और ठोकर खा कर जब मैं जमीन पर गिर पड़ी थी . . . .
दो बूंद खून की देख माँ तू भी तो रो पड़ी थी
माँ तूने तो मुझे फूलों की तरह पाला था . .
उन दरिंदों का आखिर मैंने क्या बिगाड़ा था .
क्यों वो मुझे इस तरह मसल के चले गए है .
बेदर्द मेरी रूह को कुचल के चले गए . . .

मां…..
तू तो कहती थी अपनी गुड़िया को दुल्हन बनाएगी . . . .
मेरे इस जीवन को खुशियों से सजाएगी . .
माँ क्या वो दिन जिंदगी कभी ना लाएगी????
क्या तेरे घर अब कभी बारात ना आएगी ??
माँ खोया है जो मैने क्या फिर से कभी ना पाउंगी ???
मां सांस तो ले रही हूँ . . .
क्या जिंदगी जी पाउंगी???

मां…
घूरते है सब अलग ही नज़रों से . . . .
मां मुझे उन नज़रों से छूपा ले …
माँ बहुत डर लगता है….
मुझे आंचल में छुपा ले . . . . ?

©“इंदु रिंकी वर्मा”

7 Likes · 5 Comments · 10719 Views
You may also like:
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पिता
Meenakshi Nagar
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अरदास
Buddha Prakash
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...