Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

माँ दुआओं से अपनी बचाती रहे

आज की हासिल
ग़ज़ल
********
माँ जो औलाद पर जां लुटाती रहे
खुद रहे भूखी सबको खिलाती रहे
??
आज के बच्चे देखें न माँ को कभी
चाहे हालत पे आँसू बहाती रहे
??
गर बला आए बच्चों की जानिब कभी
माँ दुआओं से अपनी बचाती रहे
??
खुद परेशां रहे धूप से माँ मगर
छतरी आँचल की तुम पर लगाती रहे
??
बस खुशी में तुम्हारी माँ खुश हो गई
दर्द को अपने तुमसे छुपाती रहे
??
माँ से बढ़ कर रहमदिल न देखा कोई
फ़र्ज़ जो जान देकर निभाती रहे
??
चूमते रहना “प्रीतम” क़दम माँ के तू
जिंदगी फिर तेरी मुस्कुराती रहे
??
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
15/09/2017
?????????

323 Views
You may also like:
झूला सजा दो
Buddha Prakash
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Deepali Kalra
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...