Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

माँ तेरी याद के है बहुत मौके

जब गूंजते ये शब्द कानो में
किसी माँ के,
बेटा अभी खाया ही क्या है
ले एक और खा ले चपाती
तब माँ तेरी याद है बहुत आती
याद है बहुत आती।।

^^^^दिनेश शर्मा^^^^

Language: Hindi
Tag: कविता
597 Views
You may also like:
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
स्वर्गीय सावन कुमार को समर्पित
RAFI ARUN GAUTAM
गीत हरदम प्रेम का सदा गुनगुनाते रहें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️तर्क✍️
'अशांत' शेखर
पापा की परी...
Sapna K S
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुनो मुरलीवाले
rkchaudhary2012
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
" पर्व गोर्वधन "
Dr Meenu Poonia
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
माना कि तेरे प्यार के काबिल नही हूं मैं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
कविराज
Buddha Prakash
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
चुप्पी तोड़ो
Shekhar Chandra Mitra
मुंशी प्रेमचंद, एक प्रेरणा स्त्रोत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
*विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस प्रदर्शनी : एक अवलोकन*
Ravi Prakash
तक़दीर की उड़ान
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
कृष्ण नामी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...