Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 1, 2016 · 1 min read

माँ तेरी याद के है बहुत मौके

जब गूंजते ये शब्द कानो में
किसी माँ के,
बेटा अभी खाया ही क्या है
ले एक और खा ले चपाती
तब माँ तेरी याद है बहुत आती
याद है बहुत आती।।

^^^^दिनेश शर्मा^^^^

446 Views
You may also like:
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
सौगंध
Shriyansh Gupta
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
"अशांत" शेखर
✍️पैरो तले ज़मी✍️
"अशांत" शेखर
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क का गम।
Taj Mohammad
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
"अशांत" शेखर
Baby cries.
Taj Mohammad
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
तुम मेरी हो...
Sapna K S
पल
sangeeta beniwal
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr. Alpa H. Amin
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
सुंदर बाग़
DESH RAJ
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
Little sister
Buddha Prakash
Loading...