Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author
May 16, 2022 · 1 min read

*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*

*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
धारा बहती रक्त की ,काटा सिर को आप
रक्त-पिपासा शांत की ,माँ ने यों चुपचाप
माँ ने यों चुपचाप ,जया – विजया ने पाई
मस्तक धड़ से छिन्न ,युद्ध-रुचि नहीं दिखाई
कहते रवि कविराय ,अनावश्यक रण हारा
नहीं अन्य का रक्त , बही माँ चंडी धारा
—————————————————-
कथा : असुरों से युद्ध में विजय के बाद भी जब माता चंडी देवी की सहयोगी जया और विजया की युद्ध-पिपासा शांत नहीं हुई ,तब माँ ने अपने सिर को धड़ से अलग कर दिया और अपने रक्त की धारा से युद्ध-पिपासा शांत की। यह प्रसंग युयुत्सु वृत्ति (युद्ध करने की इच्छा) पर विजय पाने तथा भौतिक वासनाओं से ऊपर उठने के साधनामय जीवन की श्रेष्ठता को उजागर करता है । यह वैशाख की पूर्णिमा से एक दिन पहले की कथा है । (लेखक : रवि प्रकाश)
—————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 999761 5451

59 Views
You may also like:
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
निशां मिट गए हैं।
Taj Mohammad
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H. Amin
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
हर रोज योग करो
Krishan Singh
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
Loading...